सर दर्द की दवा { Sar Dard Ki dawa } 2022 में सारी जानकारी हिंदी में

Rate this post

Hello Dosto कैसे हो आप सब उम्मीद है आप सभी अच्छे होंगे Dosto आज के इस कमाल के Blog में हम आप सभी को बताने वाले है की Sar Dard Ki dawa 2022 में कौन कौन सी है यदि आप जानना चाहते है तो इस Blog को आखिर तक जरूर पढ़े ,आप सभी ने एक कहावत तो सुनी ही होगी स्वास्थ्य है तो संपदा (दौलत) है,अगर स्वास्थ्य नही है तो कुछ भी नही है। इसलिए स्वस्थ रहना हमारी सबसे पहली जरूरत होनी चाहिए। 

अक्सर तनाव और टेंशन हमारी रोज मर्रा की जिंदगी में आये दिन दस्तक देती रहती है। आज कल हर कोई सर के दर्द से परेशान है,हर किसी को एक तरह का सिररदर्द नही होता। सभी को सर दर्द होने की अलग- अलग वज़ह होती है,और हर तरह के सर दर्द की अलग- अलग दवाई भी होती है। इसलिए,आज हम आज फिर आपके लिए लेकर आये है एक और धमाकेदार Blog को जो आपके लिए बहुत लाभदायक हो सकती है। दोस्तो आज हम आपको इस ब्लॉग में बताने वाले है ,

  • सर के दर्द की मुख्य वजह
  • सर के दर्द को ठीक करने वाली दवाइयाँ

दोस्तो इस Blog में हम आपको सर के दर्द की दवाई के बारे में बताने वाले है,इससे पहले हम बात कर लेते है कि सिरदर्द की वजह क्या हो सकती है।

Sar dard ki dava

आज हम आपको सर दर्द की दवा बताने के साथ साथ सर दर्द से आराम पाने के घरेलू नुस्खे भी बताएंगे साथ में सर दर्द से बचने के भी बताएंगे जिनको अगर आप अपनाते है तो आप को शायद कभी सर दर्द हो ही न जी हाँ बिलकुल आपको सिर दर्द नहीं होगा।

सर के दर्द की वजह ( क्यों होता है सर दर्द)

दोस्तो सर में दर्द होने की कई सारी वजह हो सकती है जो इस प्रकार है:-

  1. माइग्रेन :-(MIGRAINE)

माइग्रेन एक तरह की बीमारी होती है जिसमे अलग-अलग तीव्रता का सिरदर्द होता है ,अक्सर प्रकाश और ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता के साथ यह सर दर्द देखने को मिलता है। माइग्रेन का सिर दर्द कभी-कभी चेतावनी के लक्षणों के तौर पर भी देखने को मिलता है। हार्मोन में अधिक परिवर्तन होने पर , कुछ खाद्य और पेय पदार्थ ग्रहण करने पर ,कुछ अधिक तनाव और व्यायाम की वजह से भी कभी -कभी माइग्रेन का सिरदर्द देखने को मिलता है।

  1. तनाव(stress) :-

तनाव आज कल हर किसी की जिंदगी में होता ही है,वह शारिरिक या फिर मानशिक दोनो प्रकार से हो सकता है।

ऐसे में तनाव भी सिर के दर्द का एक बहुत बड़ा कारण बनकर उभरता है।

  1. टेंशन(Tension):-

कोई – कोई बात हमे दिल तक छु जाती है,जिसके बारे में हम दिन रात सोचते रहते है और अपने दिमाग पर बहुत दबाव डालते रहते है, उसे टेंशन कहते है। टेंशन भी सिर के दर्द का एक कारण होती है,हम जितना दबाव अपने दिमाग पर डालेंगे ,जितना हम किसी बात को सोचेंगे उतना ही सिर का दर्द बढ़ेगा।

  1. सिर का ज्यादा हिलना:- (Concussion):-

दोस्तो कभी – कभी हम अपने सिर को गोल -गोल घुमाते रहते है,लेकिन जब हम अपने सिर को ज्यादा देर तक घुमाते रहते है तो वह हमारे सिर के दर्द का कारण बन सकता है। ऐसे में अगर सिर को जोरो से घुमाया जाए तो सिर में दर्द होता है और ये दर्द कभी- कभी बुरा भी साबित हो सकता है।

  1. संक्रमण(INFECTION):-

दोस्तो जब शुक्ष्म जीव, हम पर वार कर देते  है,तो हम बीमार हो जाते है,जिसकी वजह से हमारा शरीर उनसे लड़ने के लिए अपना बॉडी तापमान बढ़ देता है जिसकी वजह से हमे सिर में भी दर्द महसूस होता है। बीमार पड़ना भी सिर के दर्द का एक कारण होता है। तो दोस्तो यह हमने बताया कि सिर के दर्द की कोन कोनसी वजह हो सकती है । चलिये अब बात करते है सिर का दर्द होने पर हम कोनसी – कोनसी दवाइयाँ ले सकते हैदर्द निवारक(दर्द को कम करने वाली दवाई ) आमतौर पर माइग्रेन और सिरदर्द को ठीक करने के लिए डॉक्टरों द्वारा दी जाने वाली पहली दवाएं होती है। इनमें से कई दवाएँ बिना डॉक्टर के पर्चे के भी हर मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध होती है, 

या अन्य सिरदर्द टेबलेट के लिए डॉक्टर के पर्चे की आवश्यकता होती है। अधिकांश सिरदर्द से राहत देने वाली दवाएं गैर-स्टेरायडल (जो स्टेरॉयड नही होती), सूजनरोधी(शरीर मे आयी सूजन को कम करने वाली) दवाओं की श्रेणी में आती हैं। मानव शरीर के अंदर ये दवाएं एक एंजाइम को बाधित करके का काम करती हैं जो कुछ रसायनों के उत्पादन के लिए जिम्मेदार होता हैं। ये रसायन दर्द और सूजन का कारण बनते हैं। सिरदर्द की दवाएं इन रसायनों के उत्पादन को कम करती हैं और दर्द से राहत प्रदान करती हैं।

 सिर के दर्द की दवाई ( Sar Dard Ki dawa )

सिर के दर्द को ठीक करने वाली दवाइया कुछ इस प्रकार है:-

  1.    Acetaminophen :- (एसिटामिनोफेन)

यह माना जाता है कि यह प्रोस्टाग्लैंडीन के काम करने की क्षमता को रोक देता है,यह हॉर्मोन शरीर में रसायनों के साथ बातचीत करके शरीर मे बदलाव करने वाला एक अंग होता है जो सूजन और दर्द का कारण बनता हैं। शरीर के साथ छेड छाड़ होने पर यह अंग सूजन और दर्द पैदा करता है ,जो एक संकेत होता है किसी भी नुकसान से बचने के लिए । Acetaminophen इस अंग के कार्य को घटा देती है,और दर्द और सूजन से बचाती है। ‘क्लीवलैंड क्लिनिक’ जोकि एक दवाइयों पर शोध करने वाली क्लिनिक है ,उसके शोध के अनुसार, जब सिरदर्द के इलाज की बात आती है तो एसिटामिनोफेन सबसे बेहतर दवाई मानी जाती है। यह तनाव के कारण होने वाले सिरदर्द को कम करने में विशेष रूप से प्रभावी है।

  1.       Aspirin :- (एस्पिरिन)

यह दवाई प्रोस्टाग्लैंडीन , हार्मोन जैसे रसायनों के उत्पादन को रोककर सिरदर्द को रोकने का काम करती है। प्रोस्टाग्लैंडिंस भी सूजन में योगदान करते हैं, यह दवाई एक सूजनरोधी भी है जो प्रोस्टाग्लैंडीन के काम करने की क्षमता को घटाकर सूजन को बढ़ने नही देती। यह दवाई मीग्रैन से होने वाले सिरदर्द के लिए काफी किफायती होती है। इसे काफी अच्छी sar dard ki dawa माना जाता है

  1.      Fenoprofen:- (फिनोप्रोफेन)

यह भी अच्छी sar dard ki dawa है एक अध्ययन के परिणाम बताते हैं कि यह एक  नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग है, फेनोप्रोफेन कैल्शियम, माइग्रेन के प्रोफिलैक्सिस में प्रभावी साबित हुई है । फेनोप्रोफेन ने सिरदर्द इकाई के परिणाम ,माइग्रेन आवृत्ति के सिरदर्द में काफी हद तक लाभदायक है । एक वयस्क व्यक्ति इसको दिन में 600 मिलीग्राम तक ग्रहण कर सकता है।

  1.     Flurbiprofen:- (फ्लूरबिप्रोफेन):-

फ्लूरबिप्रोफेन का उपयोग गठिया, मोच और खिंचाव, अवधि (मासिक धर्म) के दर्द और माइग्रेन के सिरदर्द जैसी दर्दनाक स्थितियों के इलाज के लिए किया जाता है। यह सर्जिकल ऑपरेशन के बाद दर्द को कम करने के लिए भी इस्तेमाल की जाती है। फ्लूरबिप्रोफेन आपके शरीर में रसायनों के प्रभाव को रोकने का काम करती है, साइक्लो-ऑक्सीजिनेज (COX) एंजाइम की उत्पत्ति को रोककर यह दवाई सिर दर्द को ठीक करने में सहायता करती है।

  1.    Ibuprofen :- (आइबूप्रोफेन):-

यह दवाई साइक्लोऑक्सीजिनेज (COX) नामक एंजाइम को अवरुद्ध करने का काम करती हैं । यह एंजाइम प्रोस्टाग्लैंडीन जैसे भड़काऊ रसायनों का उत्पादन करने में मदद करता है, जो शारीरिक दर्द,सूजन,सिरदर्द में भूमिका निभाते हैं। जब सही तरीके से आइबूप्रोफेन का उपयोग किया जाता है, तब यह दवाई इन सभी एंजाइम के एकत्रित होने को अवरुद्ध करता है और शारीरिक व सिरदर्द में आराम मिलता है।

दोस्तो यह हमने आपको बताया कि सिरदर्द होने पर आप को कोनसी दवाई ले सकते हो। लेकिन जितना लाभ इनको ग्रहण करने से होता है,उतना ही नुकशान इनको गलत तरीके से या गलत समय पर लेने से भी हो सकते है। इन दवाई को गलत तरीके से या फिर गलत समय पर लेने से क्या क्या नुकशान हो सकते है हम यह आपको बता रहे है।

सिरदर्द की दवाई लेने के कारण होने वाली परेशानियां निम्न है:-

रक्त कोशिका में परिवर्तन:-

सिरदर्द की दवाइयाँ अक्सर खून को पतला कर देती है,जिसकी वजह से खून का प्रेशर बढ़ सकता है।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रक्तस्राव:-

सिर दर्द की दवाई गलत तरीके से लेने पर खाने वाली नाली में घाव हो सकते है जिनमें से खून का श्राव हो सकता है,जो कि नुकशान दायक हो सकता है।

एनाफिलेक्सिस :-

यह एक प्रकार की एलर्जी है जो मीग्रैन सिरदर्द में ली जाने वाली दवाई के कारण भी हो सकती है। यह एलर्जी जीवन के लिए खतरा भी हो सकती है।

उनींदापन (drowsiness):-

अनिंद्रा सिर दर्द का एक बहुत ही आम सा विपरीत प्रभाव है। सिरदद की दवाई गलत समय और गलत तरीके से लेने पर अनिंद्रा के शिकार भी हो सकते है। ऐसे बहुत से दूर प्रणाम इन दवाइयों के देखने को मिल सकते है इसलिए किसी डॉक्टर की परामर्श के बिना हमे कभी भी इन दवाइयों का सेवन नही करना चाहिए

  • दस्त
  • अपच (खाने का ना पचना)
  • चक्कर आना (सर घूमना)
  • भूख की कमी
  • घबराहट
  • दृष्टि की समस्या 
  • जठरांत्र रक्तस्राव 
  • उल्टी  
  • यकृत की क्षति (liver damage) 
  • कब्ज

मोटे होने की दवा 2021 | Mota hone ki Dava

जैसी गंभीर समस्याएं भी देखने को मिल सकती है। तो दोस्तो हमे सिरदर्द की दवाई किसी डॉक्टर की परामर्श के बिना नही लेनी चाहिए। तो दोस्तो आजकी अपनी इस खास Blog में हमने बताया कि सिरदर्द के क्या- क्या कारण हो सकते है,और सिरदर्द होने पर हम कोंन कोनसी दवाई इस्तेमाल कर सकते है साथ ही हमने बताया कि इन दवाइयों को गलत तरीके से ग्रहण करने पर क्या क्या दुस्स परिणाम हो सकते है। तो दोस्तो आशा करते है आप सभी को हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर आप हमारी Blog को पसंद करते है और इसे सहेजना चाहते है तो आप इसको डाउनलोड भी कर सकते है। दुआ करते है आप सभी का स्वस्थ बना रहे हमारी ब्लॉग को पढ़ने के लिए धन्यवाद,और ब्लॉग्स के लिए जुड़े रहिये हमारे साथ।

Leave a Comment