Indian Police Ranks in Hindi | DGP से Constable तक जनिए ।

नमस्कार दोस्तों अगर आप भी किसी को Police Officer को देखकर यह सोचते हैं कि यह Police अधिकारी की Rank क्या होगी उसका पुलिस डिपार्टमेंट में होद्दा क्या होगा तो यह लेख आपके लिए अच्छा होने वाला है। बहुत इस लेख में मैं आपको Indian Police ranks in Hindi के बारे में सब कुछ बताऊंगा ।

आप अक्सर अपने दैनिक जीवन में कई पुलिसवालों को देखते होंगे और सभी पुलिस वालों की वर्दी एक जैसी दिखाई देती है लेकिन उनकी वर्दी पर अलग-अलग ‘बैज’ लगे होते हैं जो वह पुलिसकर्मी के Police Ranks और पावर की जानकारी देती है ।

पुलिस कर्मियों को अपने Rank के अनुसार ही सुख सुविधाएं मिलती है जैसे की गाड़ी, बंगला, सुरक्षा गार्ड, इत्यादि कई सुविधाएं होती है । तो हम आपको इस लेख में Indian Police Ranks in Hindi से जुड़े कई प्रश्नों के उत्तर Hindi में देंगे ।

Indian Police Ranks in Descending Order

इस लेख में Indian Police Ranks को ऊपरी होदे से नीचे होदे के क्रम में बताया गया है ।

1. पुलिस आयुक्त (राज्य) या पुलिस महानिर्देशक (DGP या CP)

DGP badge in indian police
DGP का बैज

पुलिस महानिर्देशक को English में Director General of Police (DGP) कहा जाता है। भारत में DGP पद को 3 Star पद माना जाता है ।

DGP किसी भी राज्य का सर्वोच्च अधिकारी होता है जिसके पास सबसे ज्यादा Authority होती है और पूरे राज्य का संचालन डीजीपी करता है ।

इसी वजह से इसे State Police Chief या Commissioner Of Police (CP) भी कहा जाता है । सभी DGP Indian Police Service (IPS) ऑफिसर होते है ।

एक राज्य में एक ही DGP होता है लेकिन बहुत से सहायक ऑफिसर्स भी हो सकते है जो DGP का पद रखते है ।

ऐसे अतिरिक्त अधिकारी जो डीजेपी के पद पर है उनकी भर्ती केंद्रीय सरकारी संगठनों जैसे केंद्रीय निर्देशक, केंद्रीय जांच ब्यूरो निर्देशक (Director of Central Bureau of Investigation – CBI ), आपराधिक जाँच विभाग (Director of Criminal Investigation Department – CID ), केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (Central Reserve Police Force – CRPF ), जेल के महानिदेशक (Director general of Prisons ), अग्नि रक्षा बलों के महानिदेशक और नागरिक रक्षा (Director general of fire forces and civil defence ), सतर्कता और भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (Director of vigilance and anti curroption bureau ), जैसे होद्दो पर की जाती है।

आप DGP Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

Director General of police – DGP के प्रतीक चिन्ह में अशोक स्तम्भ चिन्ह के साथ में Crossed तलवार और डंडा होता है जो आप ऊपर फोटो में देख सकते और इससे बैज के नीचे IPS लिखा गया होता है ।

DGP रंग वाले अधिकारी अपने कोलर पर Gorget patch पहनते हैं जिसका रंग गहरे नीला होता है और उस पर एक पत्ती (Oak leaf) जैसी संरचना होती है।

Gorgot patch of DGP

इस चिन्ह को देखकर आप पता लगा सकते है कि यह Police Officer एक DGP है ।

यह पाहे: RPM Full Form in Hindi – RPM का मतलब क्या होता है?

कैसे प्राप्त होता है DGP का पद ?

DGP बनने के लिए आपको नीचे दर्शाया गए सभी पदों पर क्रमानुसार काम करना पड़ेगा और जैसे जैसे आप आगे बढ़ते जाएंगे वैसे वैसे आप बीजेपी के पद के नजदीक पहुंचते जाएंगे ।

  1.  उप पुलिस अधीक्षक (DSP)
  2. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ASP)
  3.  पुलिस अधीक्षक (SP)
  4. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (SSP)
  5.  पुलिस महानिरीक्षक (DIGP)
  6. पुलिस महानिरीक्षक (IGP) 
  7. अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (ADGP)

यह सारे पदों का कार्यभार को सफलतापूर्वक संभालने के बाद आपको DGP पर पद पर नियुक्त किया जाएगा। इसलिए आप कह सकते हैं कि डीजेपी पद प्राप्त करना बहुत ही मेहनत का काम है।

डीजीपी (DGP) के लिए परीक्षा

डीजीपी बनने के लिए आपको UPSC ( Union Public Service Commission ) नामक एक परीक्षा देनी पड़ेगी, अगर आप इस परीक्षा में उत्तीर्ण हो जाते हो तो आप IPS Officer बन सकते हो और आप फिर प्रमोशन के बाद डीजीपी पद प्राप्त कर सकोगे। इस परीक्षा को देने की आयुसीमा 21 वर्ष से 30 वर्ष तक निर्धारित की गई है।

सातवें वेतन आयोग के बाद से पुलिस महानिदेशक की सैलरी 56,100 –  2,25,000 रुपये प्रतिमाह तक प्रदान की जाती है|

Read More : RPF Full Form in Hindi | RPF का Full Form क्या है? और RPF की सभी जानकारी हिंदी मे

2. अतिरिक्त पुलिस महानिर्देशक (ADGP)

ADGP badge
ADGP Badge

Indian Police Ranks में सर्वोपरी DGP के बाद अतिरिक्त पुलिस महानिर्देशक यानि ADGP का पद आता है ।

अतिरिक्त पुलिस महानिर्देशक को English में Additional Director General of Police कहते है। ADGP भी डीजीपी की तरह 3 Star Rank पद माना जाता है। इसके बावजूद ADGP को DGP का जूनियर माना जाता है ।

ADGP भारत में विभिन्न राज्यो के जनरल हेड के रूप में नियुक्त किये जाते है ।

आप ADGP Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

ADGP पद के Police Officer का प्रतीक चिन्ह DGP के प्रतीक चिन्ह के समान ही होता है। जिसमे कंधो पर अशोक स्तम्भ के साथ crossed तलवार और डंडा होता है। वह भी अपने कॉलर में गोरगेट पैच पहनते है जैसा DGP के कॉलर में होता है।

ADGP Rank के Police Officer की Salary और Exam

इस Rank प्राप्त करने के लिए भी आपको UPSC परीक्षा देनी पड़ेगी। ADGP बनने का यह एकमात्र तरीका है।

सातवें वेतन आयोग के बाद से अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक की सैलरी 56,100 –  2,05,400 रुपये प्रतिमाह तक प्रदान की जाती है|

3. संयुक्त पुलिस आयुक्त या पुलिस महानिरीक्षक ( IGP )

IGP rank officers bagde

Indian Police Ranks की सीरीज में अगला रैंक संयुक्त पुलिस आयुक्त या पुलिस महानिरीक्षक ( IGP ) का आता है। संयुक्त पुलिस आयुक्त या पुलिस महानिरीक्षक को English में Inspector General of Police कहते है।

भारत में ब्रिटिश सरकार ने शासन के दौरान भारतीय परिषद अधिनियम 1861 (Indian Council Act) पेश किया। इस अधिनियम के अनुसार उन्होंने एक पुलिस का नया कैडर बनाया जिसे सुपीरियर पुलिस सेवा (Superior Police Services) कहा जाता है, जिसका नाम बदलकर भारतीय इंपीरियल पुलिस (Indian Imperial Police) कर दिया गया। इस अधिनियम मुताबिक Inspector General of Police – IGP पद सबसे सर्वोच्च Rank पद था।

कई स्थानों पर IGP को ‘Joint Commissioner of Police – JCP’ भी कहा जाता है।

राज्य में IGP तीसरा सर्वोच्य पद रखता है। यह पद ब्रिटेन के ‘डेप्युटी चीफ कॉन्स्टेबल (Deputy Chief Constable)’ के बराबर होता है।

कई देशों में IG पुरे राष्ट्र का सबसे वरिष्ठ अधिकारी होता है। IGP भी DG और AGD की तरह एक IPS ऑफिसर होता है। पुलिस बल के समग्र प्रशासनिक प्रबंधन के लिए IG पर आरोप लगाया जाता है और राष्ट्रीय पुलिस सेवा पर वह स्वतंत्र कमांड का प्रयोग करता है और राष्ट्रीय कानून द्वारा निर्धारित किसी भी अन्य कार्य को करता है।

आप ADGP Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

Inspector General of Police – IGP के Rank प्रतीक चिन्ह में एक सितारे के साथ में Crossed तलवार और डंडा होता है। इसके साथ में नीचे IPS भी लिखा होता है। IGP भी DGP और ADGP की तरह अपने कॉलर पर गोरगेट पैच लगाते है, जिसका रंग गहरा नीला और उस पर पत्ति जैसी रचना होती है।

कैसे प्राप्त होता है IG का पद ?

दोस्तों, IG बनने के दो तरीके है –

UPSC परीक्षा द्वारा :- आप UPSC को पार करके IPS के रूप में शामिल होते है और SP के रूप में तैनात होते है। SP को 14 साल में DIG का पद सोपा जाता है….फिर DIG को 3 साल में IG में पदोन्नत किया जाता है।

राज्य PCS परीक्षा द्वारा :- अगर आप राज्य की PCS परीक्षा को पास करते है, तो आप DSP के रूप में तैनात होते है। DSP को 10-15 साल में SP में पदोन्नत किया जाता है. SP को 14 साल में DIG का पद सोपा जाता है….फिर DIG को 3 साल में IG में पदोन्नत किया जाता है।

IGP की सैलेरी कितनी होती है?

दोस्तों अगर बात की जाए IGP की सैलरी की तो एक IGP की सैलरी लगभग 70,000 से 1 00,00 रुपए प्रति माह तक हो सकती है। IG एक बहुत बड़ा पद होता है, सरकार IG को रहने के लिए मुफ्त में बंगला, गाड़ी और घरमे काम करने के लिए Servant की व्यवस्था तक देती है।

अगर कोई UPSC Exam Pass करके और फिर IG बनते है तो वो Candidate कुच सालो में पदोन्नत होकर ADGP और आगे DGP बन जाते है। लेकिन State PCS Exam Pass करके और IG बने Candidate आगे पदोन्नत नही हो पाते है क्योंकि उनका Retirement हो जाता है।

4. अतिरिक्त पुलिस आयुक्त या पुलिस उप महानिरीक्षक ( DIGP )

Indian police ranks
DIGP Badge

संयुक्त पुलिस आयुक्त या पुलिस उप महानिरीक्षक को English में Deputy Inspector General of Police कहते है।

DIG को ‘एडिशनल कमिश्नर ऑफ़ पुलिस’ (Add. CP) भी कहा जाता है। यह पद ब्रिटेन के ‘असिस्टेन्ट चीफ कांस्टेबल’ के पद के समान होता है। Indian Police में Deputy Commissioner of Police का Rank पुलिस महानिरीक्षक के ठीक नीचे यानि की राज्य में ऊपर से चौथा आता है।

DIG या IPS भारतीय पुलिस सेवा मे 3 Star Rank रखता है और यह एक IGP या IG Police officer के अधीन होता है। किसी राज्य में DIG की सीमा नही होती है यानि की एक राज्य में एक से ज्यादा DIG हो सकते है।

DIG पुलिस के निरीक्षक जनरल को उनके क्षेत्र में पुलिस फोर्स के पर्यवेक्षण और नियंत्रण में सहायता प्रदान करता है। Deputy Inspector General of Police – DIGP IG के प्रतिनिधि के रूप में काम करता है। वह उन Matters को हल करता है जो अपने Powers के भीतर हो और बाकी Matters को IGP की राय लेने के लिए आगे भेज देता है IG अंतिम समाधान करता है।

आप ADGP Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

Deputy Inspector General of Police के प्रतीक चिन्ह में अशोक स्तम्भ के साथ तीन सितारे लगे होते है और नीचे IPS लिखा होता है, जिससे आप पहचान सकते हो की यह एक DIG Rank Officer है।

यह रैंक वाले अधिकारी अपने कॉलर पर Gorget Patch पहनते है, जिसका रंग गहरा नीला और उस पर एक सफेद लाइन होती है।

कैसे प्राप्त होता है DIG का पद ?

दोस्तों, IG बनने के दो तरीके है –

UPSC परीक्षा द्वारा :- आप UPSC को पार करके IPS के रूप में शामिल होते है और SP के रूप में तैनात होते है। SP को 14 साल में DIG का पद सोपा जाता है।

राज्य PCS परीक्षा द्वारा :- अगर आप राज्य की PCS परीक्षा को पास करते है, तो आप DSP के रूप में तैनात होते है। DSP को 10-15 साल में SP में पदोन्नत किया जाता है. SP को 14 साल में DIG का पद सोपा जाता है।

IGP की सैलेरी कितनी होती है?

DIG की सैलरी हर राज्यों में अलग-अलग होती है। DIG की सैलरी 37,400 से लेकर 67,000 तक हो सकती है और इसके अलावा विभिन्न भत्ता जैसे कि ग्रेड वेतन, गाड़ी, महंगाई भत्ता, छुट्टी यात्रा भत्ता, चिकित्सा और रहने के लिए आवास आदि सुविधाए मिलती है।

5. पुलिस उपायुक्त या वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (DCP या SSP)

DCP badge in India
DCP Badge

Indian Police Ranks की सीरीज में अगला रैंक पुलिस उपायुक्त या वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (DCP या SSP) का आता है। इसे English में Deputy Commissioner of Police (DSP) या Senior Superintendent of Police (SSP) कहा जाता है।

यह पद ब्रिटेन के ‘चीफ सुपरिटेंडेंट’ के बराबर होता है। उन्हें क़ानुन और व्यवस्था बनाए रखने के लिए किसी राज्य के जिले या फिर केंद्र शासित प्रदेश को संभालने की जिम्मेदारी सोपी जाती है। इस काम में उनकी सहायता के लिए कई Officers मौजुद होते है।

भारत में SP की पोस्ट 2 star पोस्ट मानी जाती है। SSP की Rank भरतीय सेना के अनुसार लेफ्टिनेंट कर्नल या प्रमुख के बराबर होती है।

आप DCP Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

Senior Superintendent of Police (SSP) के प्रतीक चिन्ह में अशोक स्तम्भ के साथ दो स्टार होते है और नीचे IPS लिखा होता है। आप इस बैज की मदद से आसानी से पहचान सकते हे क्योंकि कई जगह पर SSP और कई जगह पर DCP बुलाया जाता है।

यह रैंक वाले अधिकारी अपने कॉलर पर Gorget Patch पहनते है, जिसका रंग गहरा नीला और उस पर एक सफेद लाइन होती है।

कैसे प्राप्त होता है SSP का पद ?

एक DCP आम तौर पर IPS अधिकारी के रूप में न्यूनतम 6/7 वर्ष होते है। एक सीधे भर्ती किए गए IPS ऑफिसर 5 वर्ष में ही SP रैंक पर पहुच जाते है। और राज्यो में से भर्ती किया हुआ DSP 14 साल की सेवा के बाद DCP स्तर तक पहुचता है।

DCP की सैलेरी कितनी होती है?

DCP को सरकार की तरफ से प्रतिमाह 37,400 से लेकर 67,000 रूपये तक वेतन दिया जाता है | इसके साथ ही रहने के लिए आवास, गाड़ी और नौकर की भी फ्री सुविधा प्रदान की जाती है |

6. पुलिस उपायुक्त या पुलिस अधीक्षक (DCP या SP)

Indian Police Ranks
SP badge

पुलिस उपायुक्त या पुलिस अधीक्षक को English में Deputy Commissioner of Police (DSP) या Senior Superintendent of Police (SSP) कहा जाता है। भारत में पुलिस अधिक्षक कोई एक जिले के पुलिस बल का मुखिया होता है और उसका नेतृत्व करता है।

SP पद ब्रिटेन के “चीफ सुप्रिटेन्डेन्ट” के पद के बराबर होता है। ये विभिन्न ब्यूरो में अतिरिक्त पुलिस महानिर्देशक (ADGP) के रूप में भी कार्य करते है। SSP की Rank भरतीय सेना के अनुसार लेफ्टिनेंट कर्नल या प्रमुख के बराबर होती है।

यह पद केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों में Second In Command (2IC) और Deputy Commandant के समान है।

आप SP Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

Senior Superintendent of Police (SSP) के प्रतीक चिन्ह में अशोक स्तम्भ के साथ दो स्टार होते है और नीचे IPS लिखा होता है। जिसे देखकर आप जान सकते है कि यह SP रैंक का ऑफिसर है।

DCP की सैलेरी कितनी होती है?

DCP को सरकार की तरफ से प्रतिमाह 37,400 से लेकर 67,000 रूपये तक वेतन दिया जाता है | इसके साथ ही रहने के लिए आवास, गाड़ी और नौकर की भी फ्री सुविधा प्रदान की जाती है |

7. अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त या अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ADL.DCP या ASP)

Indian police ranks
ASP Badge

Indian Police Ranks की सीरीज में अगला रैंक अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त या अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ADL.DCP या ASP) का आता है। इसे English में Additional Deputy Commissioner of Police – Add.DCP या Additional Superintendent of Police – ASP कहते है।

सभी IPS ऑफिसर्स अपने करियर की शरुआत इस पद से करते है, और आगे जाकर SP, SSP, DIG, IG, ADGP, और आखिर में DGP बनते है। इनका ग्रेड पे लेवल 11 होता है और वही SP का लेवल 12 और SSP का लेवल 13 होता है।

आप SP Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

Senior Superintendent of Police (SSP) के प्रतीक चिन्ह में सिर्फ अशोक स्तम्भ होता है और नीचे IPS लिखा होता है। जिसे देखकर आप जान सकते है कि यह ASP रैंक का ऑफिसर है।

कैसे प्राप्त होता है ASP का पद ?

UPSC परीक्षा द्वारा :- आप UPSC को पार करके IPS के रूप में शामिल होते है और SP के रूप में तैनात होते है। SP को 14 साल में DIG का पद सोपा जाता है।

राज्य PCS परीक्षा द्वारा :- अगर आप राज्य की PCS परीक्षा को पास करते है, तो आप DSP के रूप में तैनात होते है। DSP को 10-15 साल में SP में पदोन्नत किया जाता है.

ASP की सैलेरी कितनी होती है?

Add.DCP को सरकार की तरफ से प्रतिमाह 37,400 से लेकर 67,000 रूपये तक वेतन दिया जाता है | इसके साथ ही रहने के लिए आवास, गाड़ी और नौकर की भी फ्री सुविधा प्रदान की जाती है |

8. सहायक पुलिस आयुक्त या पुलिस उपाधीक्षक (ACP या DSP)

ACP indian police rank badge
ACP Badge

सहायक पुलिस आयुक्त या पुलिस उपाधीक्षक को English में Deputy Superintendent of Police – DSP या Assistant Commissioner Of Police – ACP कहते है। ACP पद ब्रिटेन के “चीफ इन्स्पेक्टर” के पद के बराबर होता है|

ACP पुलिस विभाग में एक महत्वपूर्ण पद होता है यह पद Central और State दोनों Level के अंतर्गत आता है। ACP और DCP दोनों की रैंक पुलिस विभाग में एक समान ही होती है और काम भी समान ही होता है। ACP राज्य विभाग का होता है या फिर IPS भी हो सकता है। इंस्पेक्टर से प्रमोट होकर भी ACP बना जा सकता है।

Assistant Commissioner of Police – ACP एक Provincial Forces के सदस्य भी होते है इनको सिमित सेवा के बाद IPS की Post के लिए प्रमोट किया जा सकता है। ACP को आयकर, उत्पाद शुल्क, सेवा कर, और कस्टम जैसे पद के लिए उपयोग किया जाता है।

आप DSP Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

Deputy Superintendent of Police – DSP के रैंक प्रतीक चिन्ह में तीन सितारे होते है। जिससे आप जान सकते हो की यह DSP रैंक का अधिकारी है।

कैसे प्राप्त होता है ACP का पद ?

एसीपी बनने का तरीका यह है कि आप UPSC द्वारा आयोजित परीक्षा को पास करें और इसमें एक अच्छी रेंक प्राप्त करके एसीपी बने। अगर आप राज्य की PCS परीक्षा को पास करते है, तो आप DSP के रूप में तैनात होते है। DSP को 10-15 साल में SP में पदोन्नत किया जाता है.

DCP की सैलरी कितनी होती है?

जानकारी के अनुसार ACP का वेतन लगभग 37,400 से लेकर 67,000 होता है और ग्रेड पे 12,000 होता है। इसके अलावा उन्हें बंगला, गाड़ी आदि कई सुविधाए दी जाती है।

और भी पढ़िए : Jio Glass kya hai|| (जिओ ग्लास क्या है) In Hindi||किंमत, फीचर्स, डेट जानिए हिंदी मे

9. पुलिस निरीक्षक (PI)

Inspector Insignia

Indian Police Ranks की सीरीज में अगला रैंक पुलिस निरीक्षक (PI) का आता है। इसे English में Police Inspector – PI कहा जाता है।

पुलिस स्टेशन में एक सब-इंस्पेक्टर, हेड कॉन्स्टेबल, कांस्टेबल होते है उनमें से Police Inspector सबसे ऊपरी होता है। यानि की PI का काम थाने का संचालन करता है।

Police Inspector को S.H.O. भी कहा जाता है। इस पद पर पुरुष और महिला दोनों लोग आवेदन कर सकते है। PI एक नॉन गजटेड पोस्ट है।

 Police Inspector अपने क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था बनाये रखने के लिए जिम्मेदार होता है, यह अपराधियों को अपराध करने से रोकता है तथा दोषी लोगो को गिरफ्तार करके Court में उपस्थित करता है, यह किसी आपराधिक घटना के घटने पर उसकी जाँच करता है, यदि जाँच में कोई व्यक्ति दोषी पाया जाता है, तो उसको न्यायालय में पेश करता है, जहाँ पर दोष सिद्ध होने पर अदालत के द्वारा उसको सजा सुनाई जाती है | इस तरह से हम कह सकते है, अपराध को नियंत्रण करने का मुख्य कार्य Police Inspector का होता है |

महाराष्ट्र जैसे राज्य में PI के साथ एक Assistant Police Inspector – API भी रखा जाता है।

आप PI Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

पुलिस निरीक्षक (इंस्पेक्टर) के वर्दी पर तीन स्टार का निशान होता है और इसके अलावा पट्टी के बाहरी छोर पर लाल और नील रंग की लाईन बनी होती है| API के वर्दी पर भी 3 स्टार होते है लेकिन सिर्फ लाल रंग की लाइन बनी होती है।

पुलिस इंस्पेक्टर के लिए योग्यता

  • Candidate को स्नातक की परीक्षा उत्तीर्ण होना चाहिए|
  • Candidate की आयु 21 वर्ष से 30 वर्ष के बीच में होनी चाहिए|

पुलिस इंस्पेक्टर बनने के लिए मानक

लम्बाई :- पुरुष अभ्यर्थियों में सामान्य वर्ग के लिए लम्बाई 172 सेमी. तय की गयी है, और आरक्षित श्रेणियों के लिए लम्बाई 169 सेमी निर्धारित की गयी है| महिला अभ्यर्थियों में सामान्य वर्ग के लिए लम्बाई 160 सेमी तथा आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए लम्बाई 157 सेमी निर्धारित की गयी है |

सीना:- पुरुष अभ्यर्थियों में सामान्य वर्ग के लिए सीना बिना फुलाए 83 सेमी और फुला कर 87 सेमी तय की गयी है और आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए 81 सेमी. बिना फुलाए और 85 सेमी. फुलाकर तय की गई है|

लिखित परीक्षा :- इस परीक्षा में आपसे 100 प्रश्न पूछे जाएंगे हर एक प्रश्न के लिए 0.60 अंक निर्धारित किये गए है। गलत उत्तर देने पर 0.15 अंक माइनस होते है और समयसीमा 90 मिनट तय की गई है।

PI की सैलेरी कितनी होती है?

जानकारी के अनुसार PI का वेतन लगभग 25,000 से लेकर 34,000 होता है। राज्य के अनुसार यह वेतन बदलता रहता है।

10. पुलिस उप निरीक्षक (SI)

Sub inspector Badge

Indian Police Ranks की सीरीज में अगला रैंक पुलिस उप निरीक्षक (SI) का आता है। इसे English में Sub Inspector – SI कहा जाता है।

एक सब-इंस्पेक्टर का रैंक पुलिस फोर्स में सबसे कम रैंक में से एक है वह सिर्फ कुछ ही अधिकारी को कमांड दे सकता है। पुलिस फोर्स में SI को दरोगा अथवा उपनिरीक्षक कहा जाता है।

SI भारतीय नियमो और विनियमो के अनुसार न्यायालय में चार्जशिट दाखिल कर सकते है। आम तौर पर वह पहले जांच अधिकारी (First Investigating Officer) होते है।

उनका काम पुलिस स्टेशन में काम करने वाले स्टाफ का नियंत्रण करना, पुलिस कांस्टेबलों और अपने अंतर्गत काम करने वाले अन्य स्टाफ को ड्यूटी अलॉट करना, अपने इलाके के समस्याओं और लोगों से परिचित होना, ऑफिशियल और निजी स्रोतों से इंटेलिजेंस रिपोर्ट और अन्य जानकारी प्राप्त करना और कदम उठाना या फिर उसकी जिम्मेदारी उचित अधिकरियों को देना, पुलिस स्टेशन में लॉज की गयी ऍफ़आईआर और शिकायतों की जाँच करना और कई काम होते है।

SI कोई डेस्क जॉब नहीं है क्योंकि स्थानीय यात्रा करना इस नोकरी का हिस्सा है और आपको कमसे कम 8 घन्टे तक काम करता पड़ता है।

आप SI Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

पुलिस उपनिरीक्षक ( सब इंस्पेक्टर) की वर्दी पर दो स्टार का निशान होता है और इसके अलावा लाल और नील रंग की लाईन बनी होती है|

पुलिस सब इंस्पेक्टर के लिए योग्यता

  • अभ्यर्थी की आयु 21 वर्ष से 28 वर्ष के बीच में होनी अनिवार्य है
  • किसी भी स्ट्रीम में स्नातक डिग्री और पीएसटी/पीईटी क्लीयर

SI बनने के लिए मानक

 लम्बाई :- सामान्य वर्ग में पुरुष अभ्यर्थी की लम्बाई 172 सेमी निर्धारित है, आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए लम्बाई 169 सेमी निर्धारित की गईं है। महिला अभ्यर्थी की श्रेणी में लम्बाई 160 सेमी है, आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए 157 सेमी है।

सीना :- पुरुष अभ्यर्थी के लिए बिना सीना फुलाये  83 सेमी और फुलाकर 87 सेमी निर्धारित की गईं है। अतिरिक्त आरक्षित श्रेणियों के लिए 81 सेमी. बिना फुलाए और फुलाकर 85 सेमी तय की गईं है।

परीक्षा :- इस परीक्षा में आपसे 100 प्रश्न पूछे जाएंगे हर एक प्रश्न के लिए 0.60 अंक निर्धारित किये गए है। गलत उत्तर देने पर 0.15 अंक माइनस होते है और समयसीमा 90 मिनट तय की गई है।

SI की सैलेरी कितनी होती है?

Sub Inspector का वेतन 17,300 से लेकर 30,000 प्रति माह तक हो सकता है।

11. सहायक पुलिस उप निरीक्षक (ASI)

Indian Police ranks ASI bagde
ASI Insignia

Indian Police Ranks की सीरीज में अगला रैंक सहायक पुलिस उप निरीक्षक (ASI) का आता है। इसे English में Assistant Sub Inspector – ASI कहा जाता है।

भारत में ASI एक non-gazetted पुलिस अधिकारी होता है जो एक सब-इंस्पेक्टर के नीचे हेड कांस्टेबल के ऊपर रैंकिंग रखता है। पुलिस थानों में बह शस्त्रागार के प्रभारी होते है और प्रशिक्षण केंद्र में मुख्य ड्रिल अधिकारी होते है।

आप ASI Rank के Police Officer को कैसे पहचान सकते है?

पुलिस उपनिरीक्षक ( सब इंस्पेक्टर) की वर्दी पर एक स्टार होता है और इसके अलावा लाल और नील रंग की लाईन बनी होती है|

ASI की सैलेरी कितनी होती है?

Assistant Sub Inspector का वेतन 15,000 से लेकर 25,000 प्रति माह तक हो सकता है।

12. हेड कांस्टेबल (HC)

indian head constable insignia
Head Constable Badge

Indian Police Ranks की सीरीज में अगला रैंक हेड कांस्टेबल (HC) का आता है। इसे English में Head Constable – HC कहा जाता है।

एक Head Constable का रैंक पुलिस फोर्स में सबसे कम रैंक में से एक है। भारतीय पुलिस में हेड कांस्टेबल का पद अन्य देशों के सर्जन्ट (Sergent) के बराबर है।

वे अपनी आस्तीन पर तीन पॉइंट डाउन शेवरॉन (three point-down chevrons) पहनते है जो लाल रंग की होती है या फिर कंधो पर तीन पिली पट्टी भी हो सकती है।

Head Constable का वेतन 12900 से लेकर 20,000 प्रति माह तक हो सकता है।

13. वरिष्ठ पुलिस कांस्टेबल (SPC)

Senior police constable badge
SPC badge

Indian Police Ranks की सीरीज में अगला रैंक वरिष्ठ कांस्टेबल (SHC) का आता है। इसे English में Senior Head Constable – SHC कहा जाता है।

वे अपनी आस्तीन पर दो पॉइंट डाउन शेवरॉन (two point-down chevrons) पहनते है जो लाल रंग की होती है या फिर कंधो पर दो पिली पट्टी भी हो सकती है।

Senior Head Constable का वेतन 10,000 से लेकर 15,000 प्रति माह तक हो सकता है।

14. पुलिस कांस्टेबल (PC)

Police Constable

Indian Police Ranks में सबसे आखिर में पुलिस कांस्टेबल का Rank आता है यानी कि यह पोस्ट सबसे नीचे मानी जाती है।

कानून और व्यवस्था बनाये रखने के लिए सभी राज्य को पुलिस कांस्टेबल की भर्ती करनी पड़ती है। सब पुलिस कांस्टेबल खाखी यूनिफार्म पहनते है जो बताता है कि वह एक पुलिस ऑफिसर है।

पुलिस कॉन्स्टेबल के कंधों पर कोई भी पट्टी या कोई प्रतिक चिन्ह लगा नहीं होता है इसलिए अगर आप किसी ऑफिसर को खाखी यूनिफॉर्म में चिन्ह के बिना तैनात देखें तो आप समझ जाइए कि एक पुलिस कॉन्स्टेबल है।

पुलिस कॉन्स्टेबल का वेतन 8,000 से लेकर 12,000 प्रति माह तक हो सकता है।

अब में आशा करता हु की आप Indian Police Ranks in Hindi को समज गये होंगे और किसी भी ऑफिसर को देखकर आप पता लगा पाएंगे कि वह कोनसे रैंक का पुलिस ऑफिसर है।


पुलिस को अपने पद के अनुसार तमाम सुख सुविधाए दी जाती है जैसे की बंगला, सुरक्षा गार्ड, गाड़ी, सर्वन्ट…. यह सुविधाए उनके स्टार के मुताबिक दी जाती है। भारत में तीन प्रकार के ऑफिसर होते है – एक स्टार, दो स्टार, तीन स्टार।

तीन स्टार

अगर आप किसी ऑफिसर की गाड़ी में तीन स्टार देखे तो समज जाइए की भीतर बैठा शख्स डीजीपी है। उन्हें Commissioner of Police भी कहते है।

दो स्टार

अगर किसी ऑफिसर की गाड़ी पर दो स्टार लगे है तो आप समझ जाइए की यह एक IG रैंक का अधिकारी है। उनका क्रम डीजीपी के बाद में आता है। उन्हें Assistant Commissioner of Police भी कहा जाता है।

एक स्टार

अगर सरकारी गाड़ी के बहार एक स्टार लगा हुआ है तो वह गाड़ी DIG की है। इस रैंक के अधिकारी को Joint Commissioner of Police – JCP भी कहा जाता है।

अगर आपको अभीभी Indian Police ranks in Hindi को लेकर कोई सवाल है तो नीचे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हो।आपको यह लेख पसंद आया है तो हमारे Blog को Subscribe करना ना भूले और Social Media पर इसे शेयर जरूर से करें.

यह भी पढ़े:

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap